मीडिया में पहला काम


राजेन्द्र माथुर पर बनी पहली फिल्म का इंदौर में प्रदर्शन
अब प्रभाष जोशी, राहुल बारपुते, एसपी सिंह और शरद जोशी पर बनेगी फिल्में

इंदौर। हिन्दी के आज़ाद भारत के चुनिन्दा संपादकों पर अब वृतचित्रों की श्रंखला बनाई जाएगी. इस कड़ी में पहली फिल्म राजेंद्र माथुर पर बन चुकी है. इसके बाद अब प्रभाष जोशी, राहुल बारपुते, सुरेन्द्र प्रताप सिंह और शरद जोशी पर फ़िल्में अगले तीन साल में पूरी हो जाएँगी. वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल ने यह बीड़ा उठाया है। इन फिल्मों पर फिलहाल शोध कार्य शुरू हो चुका है। प्रिंट, रेडियो और टीवी-तीनो विधाओं में काम कर चुके राजेश बादल के मुताबिक राजेंद्र माथुर पर बनी फिल्म का पहला शो इंदौर में हाल ही में हुआ। इंदौर से ही राजेंद्र माथुर ने अपनी पत्रकारिता की शुरुआत की थी। वे इंदौर प्रेस क्लब के अध्यक्ष भी रहे थे. इंदौर में उनके नाम पर बने राजेंद्र माथुर ऑडिटोरियम में इस फिल्म का प्रदर्शन हुआ. इसे देखने के लिए बड़ी संख्या में पत्रकार, लेखक और विचारक उपस्थित थे। श्री बादल के मुताबिक इस फिल्म को बनाने में तीन साल लग गए। माथुरजी का निधन १९९१ में हुआ था और उस समय टीवी ने उद्योग की शक्ल देश में नहीं ली थी. इसलिए उनके वीडियो को जुटाने में काफी समय लगा। आधे घंटे की इस फिल्म में राजेंद्र माथुर के दुर्लभ वीडियो के अलावा ऊनके रेडियो साक्षात्कारों के हिस्से और ३६ साल में लिखे उनके चुनिन्दा लेखों के हिस्से शामिल किये गए हैं। इसके अलावा राजेंद्र माथुर की पत्रकारिता को समझने वाले और उनके करीब रहे लोगों से बातचीत भी इसमें दिखाई गयी हैं। राजेश बादल के मुताबिक यह फिल्म नए पत्रकारों के लिए बेहद उपयोगी तो है ही, उन लोगों के लिए भी काम की है, जिन्होंने न तो राजेंद्र माथुर को देखा है, न उनके साथ काम किया और न उनको पढ़ा है। श्री बादल ने बताया कि इस फिल्म के शो देश भर में हिंदी मीडिया से जुड़े लोगों के लिए किये जायेंगे. मीडिया संस्थानों और कॉलेजों में भी फिल्म दिखाई जायेगी, जहाँ पत्रकारिता पढाई जाती है. राजेंद्र माथुर पहले नई दुनिया इंदौर के प्रधान संपादक और फिर राष्ट्रीय दैनिक नवभारत टाइम्स के संपादक रहे। वैसे वे अंग्रेजी के प्रोफेसर थे लेकिन हिंदी पत्रकारिता में उनका योगदान अदभुत है। उनके लेखन के कई संकलन प्रकाशित हो चुके है। राजेश बादल ने बताया कि इस क्रम में अन्य पत्रकारों और संपादकों पर फिल्मों कि शूटिंग भी जल्द शुरू हो जाएगी। श्री बादल ने अपील की कि जिसके पास भी सुरेन्द्र प्रताप सिंह, प्रभाष जोशी, शरद जोशी और राहुल बारपुते के फोटो, वीडियो या अन्य दस्तावेज हों कृपया उन्हें प्रदान कर सहयोग करें। श्री बादल राजेंद्र माथुर और सुरेन्द्र प्रताप सिंह के साथ करीब बारह साल तक साथ काम कर चुके हैं और पिछले ३४ साल से पत्रकारिता कर रहे हैं। कैसा रहा राजेंद्र माथुर का जीवन :- राजेन्द्र माथुर प्रखर पत्रकार और सहज इंसान थे. १९९१ में उनके निधन के बाद हिन्दी पत्रकारिता में बड़ी रिक्तता आई है। लेकिन उनके जीवन-मूल्यों और पत्रकारिता को आदर्श मानने वालों की संख्या भी बहुत है। वे आदर्श महापुरुषों की पूजा करवाने के बजाय ऊनके गुणों और विचारों को अपनाने के पक्षधर थे। उन्होंने विदेशी आक्रमण, अकाल, भूकम्प की परिस्थितियों में भी निराशा भरी टिप्पणियाँ नहीं लिखीं। ऐसे नाजुक अवसरों पर भी समाज में आत्मवि·ाास पैदा करने का प्रयोग उन्होंने सदा किया। अगस्त १९६३ में उन्होंने लिखा था-'हमारे राष्ट्रीय जीवन में दो बुराइयाँ घर कर गई हैं जिन्होंने हमें सदियों से एक जाहिल देश बना रखा है। पहली तो अकर्मण्यता, नीतिहीनता और संकल्पहीनता को जायज ठहराने की बुराई, दूसरी पाखंड की बीमारी, वचन और कर्म के बीच गहरी दरार की बुराई।' वे सभ्यता को अक्षुण्ण रखने के लिए जंगली जिंदादिली को जरूरी मानते थे। उनके लेखन में राष्ट्रवाद कूट-कूटकर भरा है, लेकिन भाषा, धर्म, क्षेत्र के आधार वाली कट्टरता कहीं नहीं मिलती। वास्तव में माथुर साहब समाज के हर व्यक्ति की गरिमा की रक्षा के पक्षधर थे। उनके लेखन में बेहद पैनापन था, लेकिन किसी तरह का पूर्वाग्रह और दुर्भावना का अंश कभी देखने को नहीं मिला। पं. नेहरू को आदर्श मानने के साथ वे स्वयं सच्चे अर्थों में 'डेमोक्रेट' संपादक थे। राजेन्द्र माथुरजी के ६० के दशक (१९६३ से १९६९) तक के लेखों का महत्व इक्कीसवीं शताब्दी में और बढ़ गया है। उन्होंने सदा ही जिम्मेदार पत्रकारिता पर बल दिया है। यही कारण है कि ऊनके लेखन में कभी जहर की बूँद नहीं दिखाई दी। वे ऋषि की तरह समाज और राजनीति का आकलन करते रहे।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलेक्ट्रॉनिक माध्यम या मुद्रित माध्यमों का व्यवसायिकरण

मीडिया का बाजारवाद

रिसर्च जर्नल ‘समागम’ का अंक रेडियो पर