संदेश

February 6, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सडक़ कहीं नहीं जाती ...

मनोज कुमार
अकबर ने बीरबल से एक बार पूछा था कि यह सडक़ कहां जाती है? हाजिर जवाब बीरबल का जवाब था-सडक़ तो कहीं नहीं जाती अलबत्ता लोग जरूर जाते-आते हैं. बचपन में पढ़ी यह कहानी का अर्थ तब मुझे शायद समझ में नहीं आया था लेकिन आज समझ में आ गया. मेरे भोपाल में दो दिन पहले एक हादसा हुआ. तकरीबन 8 बरस की एक बच्ची को किसी व्यक्ति ने बेरहमी से मार डाला. आशंका कई तरह की जतायी जा रही थी. लोग गुस्से से उबल रहे थे. जिस सडक़ से मैं रोज अपने दफ्तर आता हूं और उसी सडक़ से घर लौटता हूं. आज उसी सडक़ पर सन्नाटा था. इस सडक़ पर बच्ची नहीं थी लेकिन इस दुख का गवाह सडक़ था. अमूनन वैसे ही जैसा कि हर सडक़ हर हादसे का गवाह होता है. मन तो दुखी था ही. बेबस मैं घर लौट रहा था. आहिस्ता आहिस्ता अंधेरा घिरने लगा था. दुख पर रात का स्याह अंधेरा छाने लगा था. अगली दिन सुबह की लालिमा में बीते रात का दुख कहीं कम हो चुका था.
रोज की तरह मेरी रोजमर्रा की गाड़ी अपने रफ्तार से शुरू हो चुकी थी. रोज की तरह एक बार फिर मैं इसी सडक़ पर था. सडक़ के जिस हिस्से पर कल दुख बिसरा था, वहां पहुंच पाता इसके सौ फर्लांग पहले मुझे शहनाई की आवाज सुना…