एक माँ के लिए


एक मां के लिये

बड़ी भली है अम्मा मेरी मुझको रोज ताजा दूध पिलाती है
कभी सांची तो कभी अमूल का पैकेट लेकर आती है
रोज रोज बढ़ते दूध के दाम भी अम्मां को नहींे डरा पाती है
लल्ला को दूध पिलाने खुद भूखी रह जाती है
बड़ी भली है अम्मा मेरी मुझको रोज ताजा दूध पिलाती है
अम्मां की नहीं थी कोई आस, चिंता थी उसके पास
उसका लल्ला कब गबरू जवान बनेगा
मिट जाएगी उसकी चिंता
घड़ी बदली, घंटा बदला बदला जीवन का रेला
बैठ रेल में लल्ला चल पड़ा अकेला
अम्मा रह गयी अकेली लल्ला की यादों में
अम्मा तक रही रहा अभी अभी लल्ला आएगा और कह जाएगा
बड़ी भली है अम्मा मेरी मुझको रोज ताजा दूध पिलाती है

मनोज कुमार

टिप्पणियाँ

  1. पढ़ते हुए ऐसा लगा पंख लगा कर अभी यहाँ (सहर ) से गाँव अपने माँ के पास पहुच जाऊ और उसको बहुत बहुत प्यार करू उसके सरे गम को दूर कर हँसाने की हर संभव कोशिश करू. !! पर क्या करू क्या करू काया करू ??????????

    उत्तर देंहटाएं
  2. dada mail kiya hai aur mere blog par bhi aapki kavita chipka di hai dekhiyega jaroor
    http://pungibaaj.blogspot.com/2010/05/blog-post_08.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस का सटायर तो अद्भुत है ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलेक्ट्रॉनिक माध्यम या मुद्रित माध्यमों का व्यवसायिकरण

मीडिया का बाजारवाद

रिसर्च जर्नल ‘समागम’ का अंक रेडियो पर