रविवार, 11 फ़रवरी 2018

रिसर्च जर्नल ‘समागम’ का अंक रेडियो पर

भोपाल से प्रकाशित रिसर्च जर्नल ‘समागम’ ने अपने निरंतर प्रकाशन के 17वां वर्ष पूर्ण कर लिया है. 
18वें वर्ष का पहला अंक रेडियो पर केन्द्रित है. रिसर्च जर्नल ‘समागम’ का यह अंक कैसा लगा, आपकी प्रतिक्रिया चाहेंगे. 
हमसे जुडऩे के लिए आप हमें ई-मेल samagam2016@gmail.com कर सकते हैं. 
मानक शोध पत्र/लेख आमंत्रित हैं. सम्पादक मनोज कुमार

खादी और गांधी पहले से ज्यादा प्रासंगिक हो रहे हैं-रघु ठाकुर

भोपाल। ‘खादी केवल वस्त्र नहीं बल्कि वह अनेक आयामों से जुड़ा हुआ है. जैसे जैसे समय गुजरता जा रहा है, वैसे वैसे खादी और गांधी अधिक प्रासंगिक...