शनिवार, 15 अगस्त 2009

नुक्ताचीनी

साथियों,

आने वाले सोमवार 17 अगस्त से रिपोर्टर का नया काॅलम नुक्ताचीनी का प्रकाशन आरंभ होगा. नुक्ताचीन में भोपाल से प्रकाशित प्रमुख हिन्दी दैनिकों के खबरों का विश्लेषण किया जाएगा. इस स्तंभ का मकसद किसी आलोचना का नहीं बल्कि अपनी बात रखने का होगा. उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा प्रयास अच्छा लगेगा. आग्रह है कि अपनी प्रतिक्रिया से जरूर अवगत करायें. पक्ष और विपक्ष दोनों का हम तहेदिल से इस्तकबाल करेंगे.

खादी और गांधी पहले से ज्यादा प्रासंगिक हो रहे हैं-रघु ठाकुर

भोपाल। ‘खादी केवल वस्त्र नहीं बल्कि वह अनेक आयामों से जुड़ा हुआ है. जैसे जैसे समय गुजरता जा रहा है, वैसे वैसे खादी और गांधी अधिक प्रासंगिक...